QIP क्या होता है ? इसमें निवेश कोन कर सकता है

QIP क्या होता है ? इसमें निवेश कोन कर सकता है

आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की QIP क्या होता है आज कल हर कोई कंपनी अपना आईपीओ लेकर आ रही है आईपीओ के चलते हैं मार्केट में काफी धूम मची हुई है इन्वेस्टमेंट को लेकर इन्वेस्टमेंट को लेकर अभी हाल ही में शेयर मार्केट एक नाम सुनने को मिल गया मिल रहा है इसका नाम QIP है यह भी आईपीओ से मिलता जुलता शब्द है शेयर मार्केट में काफी ट्रेंड में चल रहा है हर कोई QIP के बारे में जानना चाहता है की शेयर मार्किट मै QIP क्या है 

QIP क्या होता है ? इसमें निवेश कोन कर सकता है

हाल ही में खबर निकल कर आ रही है जिसमें बताया जा रहा है institution भी QIP लेकर आ रहे हैं अब आपके मन मे यह सवाल उठ रहा होगा आखिर यह क्यूआईपी में होगा क्या कौन इसमें अपना पैसा निवेश कर पाएगा और हम इसमें अपना पैसा कैसे निवेश कर सकते हैं इन सभी क्वेश्चन के आंसर आपको इस पोस्ट में मिल जाएंगे

 शेयर बाजार में कहीं तादाद में लोग अपने पैसा निवेश करते हैं लेकिन कुछ लोगों को यह नहीं पता है कि अभी शेयर मार्केट में एक सब निकल के आ रहा है जिसका नाम क्यूआईपी है जोकि इन्वेस्ट करने का एक जरिया बन सकता है तो चालिए फिर जानते हैं  

QIP क्या होता है ? - QIP Full Form 

QIP का पूरा नाम ( Qualified Institutional Placement ) होता है इसका उद्देश्य शेयर मार्केट में लिस्ट भी कंपनी को फंड जुटाना QIB का उद्देश्य है क्यूआईपी कंपनियों के माध्यम से QIB (Qualified Institutional Buyers ) को इक्विटी शेयर के साथ साथ Securities परदान करती हैं QIB की एक सबसे बड़ी खासियत है कोई भी कानूनी कार्रवाई कराई बना क्यों QIB फंड प्रदान कराती है 

आखिर क्यूओ क्यूआईपी भारत में लाया गया इसका मुख्य कारण क्या था भारत को अपना विकास करने के लिए बाहर के देशों की पूंजी पर निर्भर रहना पड़ता था इस कारण से छुटकारा पाने के लिए क्यूआईपी को लाया गया क्यूआईपी की शुरूआत 2006 में की गई थी 

कंपनियों को घरेलू बाजार से राशि जुटाने में काफी समस्याएं उत्पन्न होती थी अधिकतम कंपनियों को देसी बाजारों पर निर्भर रहना पड़ता था समस्या का समाधान करने के लिए क्यूआईपी को भारत में शुरू किया गया जब से क्यूआईपी आया है तब से अधिकतम कंपनी की यह समस्या दूर हो चुकी है 

QIP में Floor Price क्या होता है ? 

QIP में फ्लोर प्राइस को आसन तरीके से समझे तो किसी भी कंपनी QIP में शेयर इक्विटी के अनुसार फ्लोर प्राइस कन्फर्म किया जाता है फ्लोर प्राइस को QIP के न्यूनतम पूंजी के मिनिमम प्राइस पर सेट किया जाता है इसी को हम फ्लोर प्राइस कहते हैं 

QIP और IPO में अंतर क्या है ? 

 जो कंपनियां एक्सचेंज पर लिस्टेड होती है उनको अपना फंड जुटाने के लिए आईपीओ का सहारा लेना पड़ता है आईपीओ वही कंपनी लाती है जो कि एक्सचेंज पर पहली बार लिस्ट होने जा रहे अप आईपीओ में निवेश कर सकते हैं उसके लिए सबसे पहले आपको कोई एक अछा सा ब्रोकर ढूढना होगा आप ब्रोकर के माध्यम से आईपीओ में निवेश कर सकते हैं 

अगर वही हम QIP ( Qualified Institutional Placement ) की बात करे तो इसमें हर कोई निवेश नही कर सकता QIB यानि ( Qualified Institutional Buyers ) ही इसमें स्मलित हो सकते हैं 

QIP के शेयर में कोन निवेश कर सकता है 

जब भी कोई कंपनी QIP लाती है तो सिर्फ उसमे Qualified Institutional Buyers को ही सामिल किया जाता है बता दें  

यह Qualified Institutional Buyers SEBI के साथ रजिस्टर होते हैं क्यूआईपी में Qualified Institutional Buyers के माध्यम से पूजी जुटाई जाता है

 अगर बात करेंगी प्रॉब्लम्स की तो इनको बहुत कम प्रॉब्लम फेस करनी होती है QIP में बहुत ही आसान और तेज तरीके से पूंजी जुटाई जाती है यह सब QIP की बजा से संभव हो पाया है

Conclusion : 

यह पोस्ट QIP क्या होता है कैसी लगी कमेंट में अपनी राय जरुर दे अगर आपका कोई सवाल जवाब है तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं अगर आप शेयर बाजार से समलित जानकारियां रोज पढ़ना चाहते हैं तो आप हमरे ब्लॉग को फ़ॉलो कर सकते हैं 

हमरे इस हिन्दी ब्लॉग पर आपको फाइनेंस , निवेश , शेयर बाजारों , क्रिप्टो से रिलेटिव सभी प्रकार की जानकारियां पब्लिश की जाती है 

Onlinebeeindia

I am the owner of this blog, I have created this blog to help people so that they can read from my block and know about the online world, if possible from all those things, on this blog you will get all kinds of information in Hindi

Post a Comment

Don't Spam

Previous Post Next Post